अर्थराइटिस के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

गठिया(Gout) यूरिक एसिड बढ़ने के कारण होने वाली ऐसी बीमारी है जो एक प्रकार के अर्थराइटिस होने का कारण होता है, इसे गाउटी अर्थराइटिस भी कहा जाता है। गठिया में यूरिक एसिड के क्रिस्ट्ल्स जोड़ो में जमा हो जाते है, यह समस्या तब होती है जब शरीर में सामान्य से अधिक यूरिक एसिड बनाने लगता है। गठिया की शुरुआत सबसे पहले पैर से होती है, आमतौर पर ये पैर के अंगूठे के जोड़ों (Metatarsal–phalangeal joint) से शुरु होता है और इसमें बहुत दर्द होता है तब इसे पोडेग्रा भी कहते है। कुछ समय के बाद यूरिक एसिड के क्रिस्टल्स शरीर के दूसरे जोड़ो तक भी फैल जाते है और यह दर्द बढ़ता हुआ कोहनी, घुटने, हाथों की अंगुलियों के जोड़ों और टिशु तक पहुँच जाता है।

वीर्य शोधन चूर्ण के इस्तेमाल से शीघ्रपतन, प्रियअंग का ढीलापन, धातु दुर्बलता, शारीरिक दुर्बलता, शुक्राणुओं की कमी, मर्दाना ताकत, कामेच्छा और काम-शक्ति की कमी (पुरुष इन्द्रिय की दुर्बलता) , वीर्य की कम मात्रा या वीर्य का पतला होना ,प्रियअंग में तनाव ना होना आदि से छुटकारा मिलता है, यह वीर्य के दूषित तत्वों को दूर करता है। इसके सेवन से स्तम्भन शक्ति बढ़ती है .
वीर्य शोधन चूर्ण जादुई व गुणकारी नुस्खा है। कम से कम 60 दिन नियमित रूप से सेवन करने पर धातु शुद्ध और पुष्ट होती है, शुक्र की वृद्धि होती है, शुक्र गाढ़ा होता है तथा स्वप्न दोष तथा शीघ्रपतन जैसी व्याधियां गायब हो जाती हैं। यह नुस्खा परीक्षित है। हानिकारक आहार-विहार का त्याग और उचित आचरण का पालन करते हुए वीर्यशोधन चूर्ण का प्रयोग करें।
https://cutt.ly/JcSL3wI

👆💯पुरुषो का वीर्य गाढ़ा करने तथा सम्भोग💯 शक्ति बढ़ाने की आयुर्वेदिक औषधि पूरे भारत घर बैठे ऑर्डर करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें💯👆
https://cutt.ly/JcSL3wI

अर्थराइटिस क्या होता है? (What is Arthritis?)

आयुर्वेद में गठिया (Gout) को वातरक्त कहा गया है। अत: यह वात और रक्त के दूषित होने से संबंधित रोग है। अनुचित आहार-विहार के सेवन से रक्त दूषित होकर वात के सामान्य मार्ग के लिए शरीर में बाधा उत्पन्न करता है तथा फिर वायु और रक्त दूषित होकर सम्पूर्ण शरीर में प्रवाहित होकर विभिन्न लक्षणों जैसे पीड़ा, जलन, लालिमा आदि लक्षण महसूस होने लगते हैं। गठिया कम उम्र के लोगों में सामान्यतः नहीं पाया जाता है। यह अधिकतर 30 से 50 वर्ष की उम्र में अपना असर दिखाता है। इसमें भी खासतौर पर यह 40 वर्ष के बाद होता है तथा महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ज्यादा होता है।

अक्सर जोड़ों के दर्द और गठिया को एक ही रोग मान लिया जाता है, लेकिन सच तो यह होता है कि दोनों में अंतर हैं। जोड़ो में दर्द होना सामान्य Arthritis कहलाता है, यह जोड़ो में होने वाली एक सूजनकारी बीमारी है जिसमें जोड़ों में अत्यधिक दर्द एवं जोड़ों को घुमाने, मोड़ने और कोई भी गतिविधि करने में परेशानी होती है। जबकि गठिया सामान्य जोड़ों के दर्द से अलग एक स्वतंत्र रोग होता है जिसे गाउट कहा जाता है। गठिया में मुख्य रूप से शरीर की छोटी संधियाँ प्रभावित होती है और उसकी शुरूआत पैर के अंगूठे में दर्द और सूजन के साथ होती है। सामान्य जोड़ो के दर्द में बुखार होना आवश्यक नहीं है परंतु गठिया (Gout) रोग की शुरूआत में दर्द और सूजन के साथ बुखार भी होता है।

संभोग शक्ति बढ़ाने की आयुर्वेदिक चाय Dr Nuskhe SxonT Whole leaf Tea – मर्दाना ताकत बढ़ाने की आयुर्वेदिक चाय Dr Nuskhe SxonT Whole leaf Tea ऑर्डर करने के लिए click करें https://cutt.ly/mcSLyOO

घर बैठे मर्दाना ताकत बढ़ाने की आयुर्वेदिक चाय Dr Nuskhe SxonT Whole leaf Tea ऑर्डर करने के लिए click करें

https://cutt.ly/mcSLyOO

अर्थराइटिस क्यों होता है? (Causes of Arthritis)

अर्थराइटिस होने के पीछे जीवनशैली और आहार की बहुत बड़ी भूमिका होती है। गठिया का मुख्य कारण अनुचित आहार होता है। जैसे अधिक मात्रा में मांस, मछली, अत्यधिक मसालेदार भोजन शराब और फ्रूक्टोज युक्त पेय पदार्थों का सेवन। इसके अलावा हमारे शरीर में आई चयापचय (Metabolism) में खराबी के कारण और मोटापा के कारण भी अर्थराइटिस होता है।

कई बार अन्य रोगों की वजह से भी अर्थराइटिस होता है जैसे-

-गुर्दे से संबंधित बीमारी

-मेटाबॉलिक सिंड्रोम (Metabolic syndrome)

-पॉलिसिथेमिया (Polycythemia)

-मूत्रवर्धक दवाइयों के सेवन से जैसे-हाइड्रोक्लोरथियाडाइड(Hydrochlorthiadide) के सेवन से भी अर्थराइटिस रोग हो सकता है।

डॉ नुस्खे Kesh Arogya hair oil के फायदे
बालों का गिराना एवं असमय सफ़ेद होने से रोके
बालो में होनी वाली रूसी से बचाव
बालों को पोषण देकर जड़ो से मजबूत करे
कमज़ोर बालों को मजबूत बनाए
बालों को मुलायम करता हैं
बालों को लंबा व घना बनाता है
सिर की त्वचा का रूखापन दूर करता है
Dr नुस्खे केश आरोग्य हेयर ऑयल ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें

https://cutt.ly/WxtCFd0

यह रोग रक्त में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाने के कारण होता है। यूरिक एसिड की बढ़ी हुई मात्रा क्रिस्टल के रूप में जोड़ों, कंडरा (Tendons) तथा आस-पास के ऊतकों (टिशु) में जमा हो जाता है। यह रोग पाचन क्रिया से संबंधित होता है। इसका संबंध खून में यूरिक एसिड का अत्यधिक उच्च मात्रा में पाए जाने से होता है। इसके कारण जोड़ों (मुख्यत पैर का अंगूठा) में तथा कभी गुर्दे में भी भारी मात्रा में क्रिस्टल्स जमा हो जाते हैं।

यूरिक एसिड मूत्र की खराबी से उत्पन्न होता है और यह प्राय: गुर्दे या किडनी से बाहर आता है। जब कभी गुर्दे से मूत्र कम आना अथवा मूत्र अधिक बनने से सामान्य स्तर भंग होता है तो यूरिक एसिड के क्रिस्टल भिन्न-भिन्न जोड़ों की जगह पर जमा हो जाते हैं। हमारी रक्षात्मक कोशिकाएँ इन क्रिस्टल को ग्रहण कर लेती है जिसके कारण जोड़ों वाली जगहों पर दर्द देने वाले पदार्थ निकलने लगते हैं।

प्यूरिन के चयापचय या मेटाबॉलिज्म में आई खराबी गठिया का मूल कारण होता है। यूरिक एसिड, प्यूरिन के चयापचय का उत्पाद के रूप में गठिया रोग का होना होता है। 90 प्रतिशत रोगियों में गुर्दे यूरिक एसिड का पर्याप्त उत्सर्जन नहीं कर पाते हैं। 10 प्रतिशत से कम रोगियों में ज्यादा यूरिक एसिड बनता है। यदि यूरिक एसिड 7,8 या 9 mg/dl हो तो गाउट होने का खतरा 0.5 प्रतिशत और 9 mg/dl से अधिक हो तो जोखिम 4.5 प्रतिशत रहता है। यूरिक एसिड का सामान्य स्तर पुरुष में 7 और स्त्री में 6 mg/dl होता है।

डॉ नुस्खे ब्रेन प्रश् के फायदे
मानसिक तनाव घटाने
अनिद्रा को दूर करता है
घबराहट को दूर करता है
हदय को बल प्रदान करता है
दिमागी शक्ति को बढ़ाता है
बार बार भूल जाने की समस्या को भी दूर करता है
रक्त संचार को नियंत्रित करता है
नींद नहीं आनी की समस्या को दूर करता है
बार बार होने वाले सर दर्द में राहत दिलाता है
पुरे भारत डॉ नुस्खे ब्रेन प्रश् ऑर्डर करने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें
https://cutt.ly/3xtLQGF

अर्थराइटिस के लक्षण (Symptoms of Arthritis)

अर्थराइटिस होने पर दर्द होने के अलावा और क्या-क्या लक्षण होते हैं यह जानना भी ज़रूरी होता है ताकि रोग की सही समय पर और सही पहचान हो सके।

-पैर के अंगूठे में लालिमा लिए हुए सूजन एवं दर्द होना।

-शरीर के अन्य जोड़ों में तेज दर्द होता है।

-रोगी को दर्द के साथ बुखार भी रहता है।

-जोड़ो में दर्द, जकड़न और सूजन के साथ रोगी को चलने-फिरने और हिलने डुलने में भी तकलीफ होने लगती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *