सौंफ के आयुर्वेदिक फायदे और उपचार

सौंफ के आयुर्वेदिक फायदे और उपचार

आयुर्वेदिक नुस्खे वाले ग्रुप मे शामिल होने के लिंक पर क्लिक करें 👍🌹

https://www.facebook.com/groups/1060360464475834/?ref=share

सौंफ के इस्तेमाल से सिरदर्द से आराम (Saunf Benefits to Get Relief from Headache in Hindi)

सौंफ (saunf in hindi) को पानी के साथ पीसकर ललाट पर लगाने से सिरदर्द से आराम मिलती है। सौंफ खाने से सिरदर्द से आराम मिलता है।

आँखों के रोग में सौंफ से फायदा (Benefits of Saunf to Cure Eye Disease in Hindi)

सौंफ के पत्ते के रस में रूई को भिगोकर आँखों पर रखें। इससे आँखों की जलन, दर्द तथा लालिमा की परेशानी ठीक होती है।

1-2 ग्राम सौंफ (sauf) चूर्ण में 65 मि.ग्रा. खसखस यानी पोस्त के दानों का चूर्ण मिला लें। इसे नियमित सेवन करने से आँखों के रोग ठीक होते हैं तथा आँखों की रोशनी बढ़ती है। सौंफ खाने से आँख के रोग में फायदा मिलता है।

2-4 ग्राम सौंफ चूर्ण में बराबर भाग खाँड मिलाकर सेवन करें। इससे मानसिक रोग तथा गाय के दूध के साथ सेवन करने से आँख के रोग ठीक होते हैं।

सौंफ के उपयोग से जुकाम में फायदा (Uses of Saunf to Cure Common Cold in Hindi)

15-30 मिली सौंफ (sof) के काढ़ा या सौंफ का पानी पीने के फायदे से जुकाम में लाभ होता है।

सौंफ के सेवन से खाँसी में लाभ (Saunf Beneficial in Cough in Hindi)

अंजीर के साथ सौंफ का सेवन (fennel in hindi) करने से सूखी खाँसी, गले की सूजन से राहत जल्दी मिलती है। बस सेवन की मात्रा सही होनी चाहिए।

मुँह के रोग में सौंफ का उपयोग फायदेमंद (Saunf Uses in Oral Problem Treatment in Hindi)

सौंफ का काढ़ा बनाकर उसमें फिटकरी मिलाकर गरारा करने से मुँह के छालों में लाभ होता है। सौंफ में बराबर मिश्री मिलाकर सेवन करने से मुँह से बदबू आने की परेशानी ठीक होती है।

हकलाने की बीमारी में करें सौंफ का प्रयोग (Uses of Saunf in Stuttering Problem in Hindi)

15-30 मिली सौंफ काढ़ा में मिश्री तथा गाय का दूध मिलाकर पिएं। इससे हकलाना की परेशानी कम होती है।

सांसों की बीमारी (दमा) में सौंफ का सेवन लाभदायक (Saunf Beneficial in Asthma in Hindi)

अंजीर के साथ सौंफ (aniseed in hindi) का सेवन करने से सूखी खाँसी, गले की सूजन तथा लंग कैंसर में लाभ होता है। 5 मिली सौंफ के पत्तों के स्वरस का सेवन करने से अस्थमा में लाभ होता है।

भूख की कमी को ठीक करता है सौंफ (Benefits of Saunf in Appetite Problem in Hindi)

बराबर-बराबर भाग में सौंफ (aniseed in hindi), बिडंग, बनायं तथा काली मिर्च का चूर्ण लें। इसे 2-5 ग्राम की मात्रा में गुनगुने जल के साथ सेवन करने से भूख बढ़ती है।

कब्ज में फायदेमंद सौंफ का प्रयोग (Saunf Beneficial in Constipation in Hindi)

1-2 ग्राम सौंफ (sof) की जड़ के चूर्ण का सेवन करने से कब्ज में लाभ होता है।

सौंफ के बीज के काढ़ा को 5-10 मिली मात्रा में भोजन के प्रत्येक ग्रास के साथ छोटे बच्चों को पिलाने से बच्चों का कब्ज ठीक होता है।

पेचिश में फायदेमंद सौंफ का इस्तेमाल (Saunf Benefits to Stop Dysentery in Hindi)

  • बराबर-बराबर भाग में बेल, नागरमोथा, सौंफ (aniseed in hindi) तथा स्थलपद्म के काढ़ा (10-30 मिली) में मिश्री मिलाएं। इसे पीने से आँवयुक्त पेचिश और खूनी पेचिश में लाभ होता है।
  • गेहूँ के आटे में सौंफ (aniseed in hindi)मिलाकर उसकी बाटियाँ बनाकर अंगारों पर सेंकें। पकने के बाद उसे कूटकर मिश्री तथा घी मिलाकर सेवन करने से आँवयुक्त पेचिश के दर्द में आराम मिलता है।
  • चार भाग सौंफ (sof) चूर्ण में एक भाग इलायची चूर्ण तथा पाँच भाग मिश्री चूर्ण मिला लें। इसे  उपयुक्त मात्रा में सेवन करने से पेचिश में शीघ्र लाभ होता है।
  • सौंफ बीज काढ़ा 25-50 मिली में मधु मिलाकर नियमित भोजनोपरांत सेवन करें। इससे अपच, एसिडिटी, गैस, कब्ज, प्यास, बुखार तथा पेशाब की कमी आदि रोग ठीक होते हैं।
  • 3-6 ग्राम बीजों को चबाने से या बीज चूर्ण का सेवन करने से पेट में मरोड़, उल्टी, पेट के कीड़े की परेशानी आदि में लाभ (benefits of saunf) होता है।
  • 2 ग्राम भुनी हुई सौंफ (aniseed in hindi) में 2 ग्राम बिना भुनी सौंफ तथा 4 ग्राम मिश्री मिलाकर सेवन करने से पेचिश ठीक होता है।
  • 5-10 मिली सौंफ के पत्तों के रस का सेवन करने से पेचिश में लाभ होता है।

सौंफ के प्रयोग से मूत्र रोग का इलाज (Saunf Treats Urinary Problem in Hindi)

सौंफ के पत्तों का रस 5 मिली का सेवन करने से मूत्राशय की सूजन ठीक होती है।

सौंफ (fennel meaning in hindi) के फलों को पीसकर शर्बत बनाकर पीने से पेशाब की जलन शांत होती है।

मासिक धर्म विकार में सौंफ से फायदा (Saunf Beneficial in Menstrual Disorder in Hindi)

सौंफ के बीज के 10-20 मिली काढ़ा में मधु मिलाएं। इसे नियमित सेवन करने से मासिक धर्म विकार जैसे- समय पर मासिक धर्म का ना आना, मासिक धर्म के समय दर्द होना और बांझपन आदि में लाभ होता है।

स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध को बढ़ाता है सौंफ (Sauf is Beneficial for Breastfeeding Women in Hindi)

सौंफ (fennel meaning in hindi)के पत्तों के 5 मिली रस को 100 मिली दूध में मिलाकर पीने से स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध की वृद्धि होती है।

सौंफ के इस्तेमाल से  गठिया का इलाज (Saunf Benefits in Treating Arthritis in Hindi)

सौंफ (fennel meaning in hindi), वच, सहिजन, गोक्षुर, वरुण, सहदेवी, वर्षाभू, शटी, गंधप्रसारिणी, अग्निमंथ फल तथा हींग की बराबर मात्रा लें। इसे कांजी से पीसकर, थोड़ा गरम करके लेप करें। इससे गठिया रोग में दर्द और सूजन दोनों ही ठीक (benefits of saunf) होते हैं।

 

मुँहासे में सौंफ का उपयोग फायदेमंद (Uses of Saunf in Relief from Acne in Hindi)

सौंफ को पीसकर मुंह पर लगाने से मुँहासे ठीक होते हैं, चेहरे की चमक बढ़ती है और रंग निखरता है। सौंफ त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद (saunf ke fayde for skin) होता है।

डॉ नुस्खे रोको जी के फायदे
आपके सेक् पावर को बूस्ट करता है
सेक्स ,टाइमिंग को बढ़ाता है
बिस्तर पर देर तक टिकने में मदद करता है सिर्फ एक कैप्सूल बना देगा आपके ताकत को घोड़े जैसे
डॉ नुस्खे रोको जी के फायदे
आपके सेक् पावर को बूस्ट करता है
सेक्स ,टाइमिंग को बढ़ाता है
बिस्तर पर देर तक टिकने में मदद करता है
डॉ नुस्खे रोको जी आर्डर करने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करे
डॉ नुस्खे रोको जी आर्डर करने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करे

https://www.flipkart.com/nuskhe-roko-g-men-male-power-enhancement-natural-herbal-ingredients-ayurvedic-no-side-effects-10-tablets/p/itm34831c5d9ed70?pid=AYDFXNMQYMPFMFWK&lid=LSTAYDFXNMQYMPFMFWKRPMXYL&marketplace=FLIPKART&srno=s_1_1&otracker=AS_Query_HistoryAutoSuggest_1_17_na_na_na&otracker1=AS_Query_HistoryAutoSuggest_1_17_na_na_na&fm=SEARCH&iid=0b14122e-5c13-4c19-b098-64a3f810ab54.AYDFXNMQYMPFMFWK.SEARCH&ppt=sp&ppn=sp&ssid=zaat0nzpds0000001610364575258&qH=f862b469eaa00b57 

 

💯👉यह है एक आयुर्वेदिक औषधि जो आपको बिस्तर पर देर तक टिकने में करती है मदद 💯👆
💯डॉ नुस्खे संभोगशाली पावर किट ( whatsapp – 8527878380 )💯

💯😂डॉ नुस्खे संभोगशाली पावर किट के फायदे 👍💯

लड़की से बात करती है पानी निकल जाना 💯💦
पेशाब करती टाइम धात का गिरना
वीर्य को गाढ़ा करता है
वीर्य की संख्या को बढ़ाता है
जल्दी निकल जाने की समस्या
लिंग में तनाव न आना
नाईट फॉल व शीर्घपतन की समस्या को दूर करता है
अंदर डालते ही निकल जाता है💦
मर्दाना कमजोरी को दूर करता है
सेक्स टाइमिंग को बढ़ाता है😁💪
सेक्स करने की इच्छा न करना
लिंग में टेड़ा पन
हस्तमैथुन की वजह से लिंग❤️ का आकार छोटा रह जाना
सेक्स करते वक्त, लिंग में कड़ापन ना आना, या फिर कड़ापन
आते ही तुरन्त ढीला हो जाना तथा ,,
बिस्तर पर देर तक टिकने में मदद करता है💪
आज ही पुरे भारत घर बैठे ऑर्डर करें ये आयुर्वेदिक औषधी👉💯( whatsapp – 8527878380 )

फ्री आयुर्वेदिक हेल्थ टिप्स पाने के आज ही ज्वाइन करे फ्री Whats_app के आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे वाले ग्रुप को ज्वाइन होने 💯के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें 💯👉

https://chat.whatsapp.com/KIL2nN073qp5EjDOoveiYZ

अस्थमा ( दमा), साँस की तकलीफ की आयुर्वेदिक उपचार दवाई घर बैठे प्राप्त करने के लिए Whatsapp करें या लिंक पर क्लिक करें

वजन बढ़ाने की आयुर्वेदिक और हर्बल दवा ( Dr. Nuskhe Weh-On WeightGainer) घर बैठे पाने के लिए लिंक पर क्लिक करें

सत्तू से मिलती है एनर्जी-
चने के सत्तू में मिनरल्स, आयरन, मैग्नीशियम और फॉस्फोरस पाया जाता है जो आपके शरीर की थकान मिटाकर आपको इंस्टेंट एनर्जी देने का काम करता है.

3-5 किलो वज़न कम बिना डायटिंग
घर बैठे 50 दिन की 100% आयुर्वेदिक बिना साइड इफेक्ट के Dr Nuskhe Weight loss Kit ऑर्डर करने के लिए click करें

पेट को ठंडा रखकर लू से बचाता है-
सत्तू की तासीर ठंडी होने की वजह से गर्मियों में इसका सेवन करने की सलाह दी जाती है. यह पेट को ठंडा रखने में भी मदद करता है जिसकी वजह से व्यक्ति को लू नहीं लगती है. सत्तू शरीर का तापमान नियंत्रित रहता है, जिससे पेट संबंधी कई बीमारियों से बचाव होता है.

कुछ पुरषों की शादी होने वाली होती है तो कुछ किसी स्वास्थ्य प्रॉब्लम के कारण स्तम्भन दोष या लिंग के सख्त या खड़ा होने में दिक्कत महसूस करते हैं इसे आम बोलचाल की भाषा में मर्दाना कमजोरी भी कहते हैं डॉ नुस्खे काम c आयल बढती उम्र का प्रभाव, जरुरत से ज्यादा हस्तमैथुन, दिल की बीमारी, उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्त चाप, शराब का सेवन, धुम्रपान, तंबाकू का सेवन, दवाइयों का दुष्प्रभाव, मधुमेह, मोटापा, रक्तवाहिकाओं में रूकावट, मानसिक तनाव, अनिंद्र आदि कई कारण हैं जो लिंग की सेहत पर बुरा प्रभाव डालते हैं और उनकी सख्ती को ख़तम करते हैं और इसके फलसवरूप वो कमजोर और शिथिल हो जाता है|

डॉ नुस्खे काम सी ऑइल के फायदे Dr Nuskhe Kam C oil

dr nuskhe kam coil

एनीमिया से रखें दूर सत्तू-
शरीर में खून की कमी होने पर व्यक्ति एनीमिया से पीड़ित होता है.ऐसा होने पर रोजाना पानी में सत्तू मिलाकर पीने से काफी लाभ मिलता है.

#शिलाजीत के फायदे : शुद्ध शिलाजीत घर बैठे ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें मूल्य 698rs

 

ब्रैस्ट साइज बढ़ाने और स्तन टाइट करने की औषधि और मसाज ऑइल डॉ नुस्खे किट घर

बैठे आर्डर करने के लिए क्लिक करें

 

नपुंसकता, शीघ्रपतन, स्वप्नदोष,
वीर्य की कमी व गाढ़ा
करता है उतेजना और
स्तम्भन की कमी दूर होगी
धात की समस्या को दूर करता है
मर्दाना कमजोरी को दूर करता है
सेक्स टाइमिंग को बढ़ाता है
ताकत और जोश बढ़ाता है
वीर्य को गाढ़ा करता है
मर्दाना शक्ति को बढ़ाता है
उतेजना को बढ़ाता है
वीर्य को जल्दी निकलने से रोकेगा
समय में बढ़ोतरी करने में लाभदायक
तनाव न आने की समस्या को दूर करता है
शारीरिक दुर्बलता, लिंग में तनाव ना होना, घर बैठे डॉ नुस्खे Night Show kit ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें

 

 

नशा छुड़ाने की आयुर्वेदिक औषधि #G1Drop घर बैठे ऑर्डर करने के लिए click करें

नींद नहीं आने की समस्या, दिमागी कमजोरी, स्ट्रेस का आयुर्वेदिक उपचार Dr Nuskhe Brain Power kit मूल्य 1046rs घर बैठे ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक

पुरुषों के समस्त गुप्त रोगों का रामबाण आयुर्वेदिक इलाज * :
*Dr Nuskhe Kamdev Churn *

इस चमत्कारी उपाय के अद्भुत फायदे : डॉ नुस्खे कामदेव चूरण को सुबह शाम 1 ग्लास दूध के साथ 1-1 चम्मच सेवन करें

यह दवा मर्दाना कमजोरी, शीघ्रपतन, शुक्राणु की कमी, लिंग का टेढापन , सेक्स की इच्छा न करना जल्दी निकल जाना, हस्तमैथुन की वजह से,सुस्ती,इन्द्रिय का शिथिल न हो पाना , लंबे समय तक,व् वृद्ध अवस्था को रोकने इत्यादि में बहुत ही ज्यादा लाभकारी है। बचपन की गलतियों के कारण अगर आपका लिंग छोटा हो गया है या !! ये आपके वीर्य को गाढ़ा करके और ज्यादा मात्रा में बनाकर आपका सेक्स करने का टाइम बहतरीन करेगा

आपके लिंग को पत्थर की तरह मजबूत करके पूरा स्ट्रांग कर देगा इसे 18 साल से लेकर 65 साल तक कोई भी पुरुष खा सकता है। यह प्योर आयुर्वेदिक है

पूरे भारत में घर बैठे डॉ नुस्खें कामदेव चूर्ण
धातुविकार,
शीघ्रपतन,
स्वपनदोष ,
शुक्रविकार,
सेक्स में मन न लगना,
शुक्राणुओ की कमी,
धातु दुर्बलता,
शारीरिक दुर्बलता, लिंग में तनाव ना होना, घर बैठे ऑर्डर करने के लिए click करें

 

डॉ नुस्खे Kesh Arogya hair oil के फायदे
बालों का गिराना एवं असमय सफ़ेद होने से रोके
बालो में होनी वाली रूसी से बचाव
बालों को पोषण देकर जड़ो से मजबूत करे
कमज़ोर बालों को मजबूत बनाए
बालों को मुलायम करता हैं
बालों को लंबा व घना बनाता है
सिर की त्वचा का रूखापन दूर करता है

Dr नुस्खे केश आरोग्य हेयर ऑयल ऑर्डर करने के लिए लिंक पर क्लिक करें

 

मैनिया (पागलपन) में सौंफ से लाभ (Benefits of Saunf in Mania in Hindi)

15-30 मिली सौंफ काढ़ा में मिश्री मिलाकर पीने से पागलपन या मैनिया रोग में लाभ होता है।

5-10 ग्राम सौंफ (sounf) को पीसकर उसमें इतना ही खाँड मिला लें। इसे पिलाने से पित्त के कारण होने वाले मैनिया रोग में लाभ होता है।

बुखार उतारता है सौंफ (Saunf Uses in Fighting with Fever in Hindi)

सौंफ, वच, कूठ, देवदारु, रेणुका, धनिया, खस तथा नागरमोथा को बराबर मात्रा में लेकर उसका काढ़ा बना लें। इसमें मधु तथा मिश्री मिला लें। इसे 25-50 मिली की मात्रा में सुबह और शाम पीने से वात दोष के कारण होने वाला बुखार ठीक हो जाता है।

शरीर दर्द में सौंफ का प्रयोग फायदेमंद (Saunf Help in Treating Body Pain in Hindi)

5-10 मिली सौंफ पत्तों के रस को पीने से पूरे शरीर का दर्द ठीक होता है।

अधिक नींद आने की समस्या को दूर करता है सौंफ (Saunf Cure Insomnia in Hindi)

10-30 मिली सौंफ काढ़ा में नमक मिलाकर पीने से अधिक नींद आने की परेशानी ठीक होती है।

10-30 मिली सौंफ (sounf) के काढ़ा में 100 मिली गाय का दूध तथा घी मिलाकर पिलाने से नींद अच्छी आती है।

मोटापा घटाने में सौंफ का प्रयोग लाभदायक (Saunf Help in Weight Loss in Hindi)

6-12 ग्राम शतपुष्पादि घी को गुनगुने दूध अथवा जल के साथ सेवन करें। इससे वात, पित्त, मेद, मूत्र रोग में फायदा होता है। इसके साथ ही मोटापा (saunf benefits for weight loss in hindi), फाइलेरिया (हाथीपाँव) तथा लीवर और तिल्ली की वृद्धि जैसी बीमारी में लाभ (benefits of saunf) होता है।

बच्चों के रोग में सौंफ के इस्तेमाल से लाभ (Saunf is Beneficial for Infant Related Disorder in Hindi)

शतपुष्पादि काढ़ा में काला नमक मिलाकर बालकों को पिलाने से बाल रोगों में लाभ होता है।

याददाश्त बढ़ाने में सौंफ के फायदे (Saunf Beneficial to Boost Memory in Hindi)

सौंफ में बल्य गुण पाया जाता है जो शरीर, मस्तिष्क एवं मस्तिष्क की नसों को बल प्रदान करता है जो कि याददाश्त को बढ़ाने में भी मदद करता है।

कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में सौंफ खाने के फायदे (Saunf Beneficial to Control Cholesterol in Hindi)

कोलेस्ट्रॉल की मुख्य वजह पाचन को असंतुलित होना होता है। ऐसे में सौंफ में पाए जाने वाले दीपन गुण के कारण यह अग्नि को दीप्त कर पाचन को स्वस्थ करती है साथ ही कोलेस्ट्रॉल को काम करने में भी सहयोग देती है।

हृदय रोग में सौंफ की चाय फायदेमंद (Fennel Tea Beneficial for Heart Disease in Hindi)

एक रिसर्च के अनुसार सौंफ की पत्तियां ह्रदय के लिए हितकर कहे गए हैं। ऐसे में सौंफ की चाय ह्रदय को स्वस्थ रखने में सहयोगी होती है।

गुर्दे की पथरी रोकने में फायदेमंद फेनल टी का उपयोग (Uses of Fennel Tea to Prevent Kidney Stone in Hindi)

गुर्दे की पथरी को रोकने में सहायक है क्योंकि एक रिसर्च के अनुसार फेनल मेंएंटीयूरोलिथियासिस का गुण पाया जाता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ाने के लिए सौंफ खाना फायदेमंद ( Fennel Beneficial to Boost Immunity in Hindi)

एक रिसर्च के अनुसार सौंफ में विटामिन सी पाया जाता है जो कि प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ करने में मदद करती है।

कैंसर के इलाज में सौंफ का औषधीय गुण फायदेमंद (Fennel Beneficial to Treat Cancer in Hindi)

एक रिसर्च के अनुसार सौंफ के बीजों में एंटी कैंसरकारी  गुण पाया जाता है। इसलिए यह कैंसर के लक्षणों को रोकने या कम करने में भी मदद करती है।

त्वचा के लिए फायदेमंद सौंफ (Saunf Beneficial for Skin in Hindi)

एक रिसर्च के अनुसार सौंफ के बीज त्वचा के लिए भी बहुत उपयोगी बताये गए हैं जो झुर्रियां आदि को रोकने में मदद करती है।

रक्त को शुद्ध करने में सौंफ का औषधीय गुण लाभकारी (Benefit of Saunf for Blood Purification in Hindi)

एक रिसर्च के अनुसार सौंफ रक्त शोधक का कार्य भी बहुत अच्छे से करती है। यह मूत्र की प्रवृत्ति को बढ़ाते हुए शरीर से सभी विषैले पदार्थों को बाहर निकाल फेंकने में मदद करते हैं।  

सौंफ के सेवन की मात्रा (How Much to Consume Saunf?)

रस – 5 मिली

काढ़ा – 15-30 मिली

चूर्ण – 2 ग्राम

सौंफ के सेवन का तरीका (How to Use Saunf?)

अधिक लाभ के लिए चिकित्सक के परामर्शानुसार ही सौंफ (sounf) का सेवन करें।

सौंफ कहां पाया या उगाया जाता है (Where is Saunf Found or Grown?)

पूरे भारत में समुद्र तल से 1800 मीटर की ऊँचाई तक सौंफ की खेती की जाती है।

आयुर्वेदिक नुस्खे वाले ग्रुप मे शामिल होने के लिंक पर क्लिक करें 👍🌹

https://www.facebook.com/groups/1060360464475834/?ref=share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *